सामान्य दन्त प्रक्रिया

यह ई-लर्निंग मोड्यूल आपको विभिन्न अध्यायों के माध्यम से डेंटल चिकित्सा में स्थापित विभिन्न डेंटल प्रोसीजर के बारे में अवगत कराएगा|

यह ई-लर्निंग मोड्यूल आपको विभिन्न अध्यायों के माध्यम से डेंटल चिकित्सा में स्थापित विभिन्न डेंटल प्रोसीजर के बारे में अवगत कराएगा| प्रत्येक अध्याय में एक हिस्सा है जो डेंटल प्रोसेजर में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका के बारे में बताता है और डेंटिस्ट की मदद करने के लिए असिस्टेंट को सक्षम बनता है। इस ई-लर्निंग को,हर अध्याय के बीच में या अंत में प्रश्नोत्तरी डालकर इंटरैक्टिव बनाया गया है| डेंटल एजुकेटर : डॉ. शालू (बी.डी.एस)  

Curriculum For This Course

इस कोर्स में डेंटल चेकउप, एग्जाम, फिलिंग, क्राउन, ब्रिज, एक्सट्रैक्शन, रुटकैनाल, डेंटल इम्प्लांट, माउथगार्ड, सेअलनटस, वेनीर्स जैसी सभी सामान्य दंत प्रक्रियाओं पर चर्चा की गई है।

दाँत साफ़ करने की प्रक्रिया को स्केलिंग कहते हैं| इस चैप्टर के ख़त्म होने तक सीखने वाले को इन सब का एक संक्षिप्त परिज्ञान हो जायेगा: ● स्केलिंग क्या है और इसे कैसे किया जाता है ● स्केलिंग करने के फायदे ● देरी से स्केलिंग के परिणाम ● स्केलिंग में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

एक्सट्रैक्शन प्रक्रिया को सॉकेट से दाँत हटाने के रूप में परिभाषित किया जाता है। इस चैप्टर के अंत तक, सीखने वाला इन चीजों से अवगत हो जाएगा: ● एक्सट्रैक्शन क्या है और इसे कब किया जाना चाहिए | ● एक्सट्रैक्शन प्रोसीजर के प्रकार ● देरी से एक्सट्रैक्शन के परिणाम ● एक्सट्रैक्शन प्रोसीजर में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

एक दाँत भरा हुआ तब कहा जाता है, जब उसका सड़ा हुआ हिस्सा निकाल दिया जाता है और उसे उचित फिलिंग मटेरियल द्वारा भर दिया जाता है| इस चैप्टर के अंत तक सीखने वाले को इन चीजों के बारे में संक्षिप्त परिज्ञान हो जाएगा: ● फिलिंग क्या होती है और इसे कब किया जाना चाहिए | ● विभिन्न टूथ फिलिंग मटेरियल ● दाँत की फिलिंग के स्टेप्स ● दाँत की फिलिंग में उपयोग होने वाले विभिन्न उपकरण ● दांतों की सड़न को भरने में देरी करने के दुष्परिणाम ● दाँत की फिलिंग में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

इस प्रक्रिया में प्रभावित और गले हुए दाँत के सड़े हुए पल्प को हटाया जाता है और कैनाल को अच्छी तरह से साफ़ कर फिलिंग मटेरियल से भर दिया जाता है| इस चैप्टर के ख़त्म होने तक सीखने वाले को इन सब का एक संक्षिप्त परिज्ञान हो जायेगा: ● आर.सी.टी क्यों जरूरी है ● रूट कैनाल थेरेपी में शामिल विभिन्न स्टेप ● आर.सी.टी को देर से करने के परिणाम ● रूट कैनाल थेरेपी में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

एक डेंटल कैप/क्रउन एक कृत्रिम रूप से निर्मित कैप है जिसे मूल दाँत के आकार पर रखा जाता है| इस चैप्टर के ख़त्म होने तक सीखने वाले को इन सब का एक संक्षिप्त परिज्ञान हो जायेगा: ● डेंटल कैप क्या होता है और इसकी क्यों ज़रूरत है ● विभिन्न प्रकार के डेंटल कैप ● परमानेंट क्राउन के फेब्रिकेशन में शामिल स्टेप ● क्राउन को देर से लगाने के परिणाम ● डेंटल कैप लगाने में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

डेन्चर एक उपकरण होता है जिसे प्राकृतिक दांतों के गिर जाने के बाद प्राकृतिक दांतों की तरह काम में लाने के लिए उपयोग किया जाता है| इस चैप्टर के ख़त्म होने तक सीखने वाले को इन सब का एक संक्षिप्त परिज्ञान हो जायेगा: ● डेन्चर क्या होता है और इसके विभिन्न प्रकार क्या हैं ● एक कम्पलीट रिमूवेबल डेन्चर बनाने में शामिल होने वाले स्टेप्स ● एक कम्पलीट डेन्चर के निर्माण में इस्तेमाल होने वाले डेंटल पदार्थ ● डेन्चर लगाने के फायदे ● डेन्चर को देर से लगाने के परिणाम ● डेन्चर के निर्माण में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

डेंटल इम्प्लांट नए ज़माने का डेन्चर है जिसे मरीज़ के जबड़े के अंदर गायब दाँत की जगह लगाया जाता है| इस चैप्टर के ख़त्म होने तक सीखने वाले को इन सब का एक संक्षिप्त परिज्ञान हो जायेगा: ● इम्प्लांट क्या होता है और सभी अन्य विकल्पों की अपेक्षा यह क्या लाभ देता है ● डेंटल इम्प्लांट के भाग ● डेंटल इम्प्लांट लगाने की विधि ● डेंटल इम्प्लांट लगाने में डेंटल असिस्टेंट की भूमिका

Recent Posts

Archives

Categories

Meta